Gyanpeeth Award list | ज्ञानपीठ पुरस्कार सूची I 57वां ज्ञानपीठ पुरस्कार गोवा के लेखक दामोदर मौजो को मिला Free PDF देखें

Gyanpeeth Award list | ज्ञानपीठ पुरस्कार सूची 57th jnanpith award : 57वां ज्ञानपीठ पुरस्कार गोवा के लेखक दामोदर मौजो को मिला 1965 से 2023 तक  Gyanpeeth Award देखें

Gyanpeeth Award list 2023

57th gyanpeeth award- 57वां ज्ञानपीठ पुरस्कार 
गोवा के लघु कथा लेखक, उपन्यासकार, आलोचक और कोंकणी में पटकथा लेखक दामोदर मौजो को भारत के सर्वोच्च साहित्यिक सम्मान 57वें ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। 2008 में रवींद्र केलेकर के बाद मौजो पुरस्कार प्राप्त करने वाले गोवा के दूसरे नागरिक हैं। मौज़ो की 25 पुस्तकें कोंकणी में और एक अंग्रेजी में प्रकाशित हुई हैं। उनकी कई पुस्तकों का विभिन्न भाषाओं में अनुवाद भी किया गया है। मौजो के प्रसिद्ध उपन्यास ‘करमेलिन’ को 1983 में साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला। गोवा की राजधानी पणजी के पास राजभवन में आयोजित समारोह के दौरान प्रसिद्ध कवि गुलजार मौजूद थे।

57th gyanpeeth award- दामोदर मौज़ो के बारे में
मौज़ो का जन्म 1944 में गोवा के अल्डोना गाँव में हुआ था। उन्होंने 1960 के दशक की शुरुआत में लघु कथाएँ लिखना शुरू किया, और उनके काम का अंग्रेजी, फ्रेंच, पुर्तगाली और अन्य भाषाओं में अनुवाद किया गया है।
मौज़ो का काम अक्सर गोवा में आम लोगों के जीवन से संबंधित होता है, और वह सामाजिक और आर्थिक मुद्दों के यथार्थवादी चित्रण के लिए जाना जाता है। उनकी कहानियों को उनकी अंतर्दृष्टि और करुणा के लिए सराहा गया है।
उन्होंने बॉम्बे विश्वविद्यालय में अध्ययन किया, जहां उन्होंने अंग्रेजी में कला स्नातक की डिग्री प्राप्त की। स्नातक होने के बाद, उन्होंने पूर्णकालिक लेखक बनने से पहले कुछ वर्षों तक एक पत्रकार के रूप में काम किया।
मौज़ो की पहली लघु कहानी, “द एंड ऑफ द नाइट”, 1965 में प्रकाशित हुई थी। तब से, उन्होंने उपन्यास, लघु कथा संग्रह और निबंध सहित 25 से अधिक पुस्तकें प्रकाशित की हैं। उनके काम का अंग्रेजी, फ्रेंच, पुर्तगाली और अन्य भाषाओं में अनुवाद किया गया है।
मौजो साहित्य अकादमी पुरस्कार, पद्म श्री और पद्म भूषण सहित कई पुरस्कारों के प्राप्तकर्ता हैं। वह साहित्य अकादमी और गोवा कोंकणी अकादमी के सदस्य भी हैं।
मौज़ो का काम साहित्य की दुनिया में एक मूल्यवान योगदान है। उनकी कहानियां व्यावहारिक, दयालु और खूबसूरती से लिखी गई हैं। वह लघु कथा के सच्चे गुरु हैं, और वह ज्ञानपीठ पुरस्कार के योग्य प्राप्तकर्ता हैं।

=================================================

Gyanpeeth Award Winners 2021 22 List In Hindi – आज किसी भी कॉम्पीटिशन Exam में समान्य ज्ञान (GK) के सेक्शन में पुरस्कार से सबंधित बहुत से Questions पूछे जाते है क्योकि पुरस्कार GK का एक इम्पोर्टेन्ट पार्ट है इसलिए यदि कोई अभ्यर्थी किसी कॉम्पीटिशन Exam की तैयारी  कर रहा है तो उसे पुरस्कार सबंधित समान्य ज्ञान होना चाहिए इसलिए आज हम यंहा Gyanpeeth Award list (ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेताओं) के बारे  में बतायेंगे  यदि आप विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे: IAS , शिक्षक, UPSC, PSC, SSC, Bank, Vyapam एवं अन्य सरकारी नौकरियों के लिए तैयारी कर रहे हैं, तो आपको Gyanpeeth Award list (ज्ञानपीठ पुरस्कार) से सम्मानित व्यक्तियों से सबंधित जानकारी होनी चाहिए Gyanpeeth Award list से 1-2 प्रश्न अक्सर एग्जाम में पूछे जाते है |

Gyanpeeth Award list (ज्ञानपीठ पुरस्कार)

Gyanpeeth Award list- भारतीय ज्ञानपीठ न्यास द्वारा ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’ भारतीय साहित्य के लिए दिया जाने वाला सर्वोच्च पुरस्कार है। भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार की स्थापना साल 1965 में की गयी थी। देश का कोई भी व्यक्ति जो भारतीय संविधान की 8वीं अनुसूची में बताई गई 22 भाषाओं में से किसी भी भाषा में लिखता हो इस पुरस्कार के योग्य है। अब तक हिन्दी तथा कन्नड़ भाषा के लेखक सबसे अधिक 7 बार इस सम्मान को प्राप्त कर चुके हैं। साल 1965 में मलयालम लेखक जी शंकर कुरुप को प्रथम ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

पुरस्कार का वर्ग साहित्य
स्थापना वर्ष 1965
पुरस्कार राशि 11 लाख रुपये
प्रथम विजेता जी शंकर कुरुप (मलयालम)
भारत की प्रथम महिला विजेता आशापूर्णा देवी (बांग्ला)
आखिरी विजेता दामोदर माऊज़ो (2021)
विवरण भारतीय साहित्य के लिए दिया जाने वाला सर्वोच्च पुरस्कार

ज्ञानपीठ पुरस्कार में कितनी पुरस्कार राशि दी जाती है?

इसमें पुरस्कार स्वरूप 11 लाख रुपये, प्रशस्तिपत्र और वाग्देवी की कांस्य प्रतिमा प्रदान की जाती है। जब वर्ष 1965 में ज्ञानपीठ पुरस्कार की स्थापना हुई थी, तो उस समय पुरस्कार राशि मात्र एक लाख रुपये थी। वर्ष 2005 में पुरस्कार राशि को एक लाख रुपये से बढाकर सात लाख रुपये कर दिया गया, जो वर्तमान में ग्यारह लाख रुपये हो चुकी है।

54वां ज्ञानपीठ पुरस्कार 2018

वर्ष 2018 का 54वां ज्ञानपीठ पुरस्कार अंग्रेजी के प्रतिष्ठित साहित्यकार अमिताव घोष को प्रदान किया जाएगा। अमिताव घोष देश के सर्वोच्च साहित्य पुरस्कार से सम्मानित होने वाले अंग्रेजी के पहले लेखक है। 14 दिसम्बर 2018 को प्रतिभा रॉय की अध्यक्षता में आयोजित ज्ञानपीठ चयन समिति की बैठक में अमिताव घोष को साल 2018 के लिए 54वां ज्ञानपीठ पुरस्कार देने का निर्णय लिया गया था। पुरस्कार के रूप में उन्हें वाग्देवी की प्रतिमा, 11 लाख रुपए और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाएगा। उनकी प्रमुख रचनाओं में ‘द सर्किल ऑफ रीजन’, ‘दे शेडो लाइन’, ‘द कलकत्ता क्रोमोसोम’, ‘द ग्लास पैलेस’, ‘द हंगरी टाइड’, ‘रिवर ऑफ स्मोक’ और ‘फ्लड ऑफ फायर’ शामिल है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अंग्रेजी को तीन साल पहले ज्ञानपीठ पुरस्कार की भाषा के रूप में शामिल किया गया था। हिन्दी की प्रतिष्ठित लेखिका कृष्णा सोबती को वर्ष 2017 के प्रतिष्ठित 53वें ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

वर्ष 2021 के लिए असमिया साहित्यकार नीलमणि फूकन को तथा वर्ष 2022 के लिए कोंकणी साहित्यकार दामोदर मौउजो को दिए जाने की घोषणा की गयी है।

  Gyanpeeth Award list हिन्दी मे नीचे पढ़ सकते है ।

(Gyanpeeth Award list)

वर्ष 1965 से अब तक ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेताओं की सूची:-

नाम

वर्ष भाषा
1. दामोदर मौउजो 2021 कोंकणी
2. नीलमणि फूकन 2020 असमिया
3. अक्खितम 2019 मलयालम
4. अमिताव घोष 2018 अंग्रेज़ी
5. कृष्णा सोबती 2017 हिंदी
6. शंख घोष 2016 बांग्लादेश
7. रघुवीर चौधरी 2015 गुजराती
8. भालचंद्र नामदेव 2014 मराठी
9. केदारनाथ सिंह 2013 हिंदी
10. रवरी भरतवाजा 2012 तेलुगू
11. प्रतिभा रे 2011 ओरिया
12. चंद्रशेखर कंबर 2010 कन्नड़
13. अमरकांत 2009 हिंदी
14. श्रीलाल शुक्ल 2009 हिंदी
15. शहरयार 2008 उर्दू
16. ओ.एन.वी. कुरुप 2007 मलयालम
17. सत्य व्रत शास्त्री 2006 संस्कृत
18. रवींद्र केलकर 2006 कोंकणी
19. कुंवर नारायण 2005 हिंदी
20. रहमान राही 2004 कश्मीरी
21. विंदा करंदीकर 2003 मराठी
22. डी. जयकान्तन 2002 तामिल
23. राजेंद्र शाह 2001 गुजराती
24. इंदिरा गोस्वामी 2000 असमिया
25. निर्मल वर्मा 1999 हिंदी
26. गुरदयाल सिंह 1999 पंजाबी
27. गिरीश कर्नाड 1998 कन्नड़
28. अली सरदार जाफरी 1997 उर्दू
29. महास्वत देवी 1996 बांग्लादेश
30. एम.टी. वासुदेवन नायर 1995 मलयालम
31. यू.आर. अनन्त मूर्ति 1994 कन्नड़
32. सीताकांत महापात्र 1993 ओरिया
33. नरेश मेहता 1992 हिंदी
34. सुभाष मुखोपाध्याय 1991 बांग्लादेश
35. वी.के. गोकक 1990 कन्नड़
36. कुरअतुलैन हैदर 1989 उर्दू
37. सी. नारायण रेड्डी 1988 तेलुगू
38. वी.वी.एस. ‘कुसुमाग्रज’ 1987 मराठी
39. सच्चिदानंद राउतराय 1986 ओरिया
40. पन्नालाल पटेल 1985 गुजराती
41. ठाकाझी एस. पिल्लई 1984 मलयालम
42. मस्ती वी. अयंगर 1983 कन्नड़
43. महादेवी वर्मा 1982 हिंदी
44. अमृता प्रीतम 1981 पंजाबी
45. एस. Pottekkatt 1980 मलयालम
46. बी.के. भट्टाचार्य 1979 असमिया
47. एस.एच.वी. Ajneya 1978 हिंदी
48. ​​के.एस. कारंत 1977 कन्नड़
49. आशापूर्णा देवी 1976 बांग्लादेश
50. पी.वी. Akilandam 1975 तामिल
51. वी.एस. खांडेकर 1974 मराठी
52. गोपीनाथ मोहंती 1973 ओरिया
53. डी.आर. बेंद्रे 1973 अन्य
54. आर.एस. ‘दिनकर’ 1972 हिंदी
55. बिष्णु डे 1971 बांग्लादेश
56. वी. सत्यनारायण 1970 तेलुगू
57. फिराक गोरखपुरी 1969 उर्दू
58. सुमित्रानंदन पंत 1968 हिंदी
59. के.वी. पुट्टप्पा 1967 कन्नड़
60. उमा शंकर जोशी 1967 गुजराती
61. टी.एस. बंद्योपाध्याय 1966 बांग्लादेश
62. जी.एस. कुरुप 1965 मलयालम

ज्ञानपीठ पुरस्कार सूची (हिंदी)

अभी तक हिंदी भाषा में 10 साहित्यकारों को gyanpeeth award दिया गया है। हिन्दी भाषा में निम्नलिखित साहित्यकारों को ज्ञानपीठ पुरस्कार मिला है-

वर्ष नाम कृति
1968 सुमित्रानंदन पंत चिदंबरा
1972 रामधारी सिंह ‘दिनकर’ उर्वशी
1978 अज्ञेय कितनी नावों में कितनी बार
1982 महादेवी वर्मा यामा
1992 नरेश मेहता
1999 निर्मल वर्मा
2005 कुँवर नारायण
2009 अमरकान्त व श्रीलाल शुक्ल को संयुक्त रूप से दिया गया।
2013 केदारनाथ सिंह
2017 कृष्णा सोबती

 

Gyanpeeth Award list – 57वें ज्ञानपीठ पुरस्कार 2023 के विजेताओं की पूरी सूची अपने दोस्तों को भी जरूर शेयर करें और Latest Current Affairs और कान्स फिल्म Award के लिए हमारी साईट cgepaper मे जरूर विजिट करें। जिसमे कई सारे अवार्ड बारे मे जानकारी मिलेगा ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!