कंप्यूटर क्या है | What is Computer in Hindi PDF Free 2023

Computer kya hai : “कंप्यूटर क्या है: एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जो डेटा को प्रोसेस करता है और विभिन्न कार्यों को संचालित करने में मदद करता है। यह इनपुट डेटा को आउटपुट में बदलता है और हमारे दैनिक जीवन में व्यापक रूप से उपयोग होता है। जानिए कंप्यूटर के बारे में और अधिक।”

कंप्यूटर क्या है: कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो डेटा को प्रोसेस करने, स्टोर करने, मानकीकृत करने, और उस पर काम करने की क्षमता रखता है। यह डेटा को विभिन्न तरीकों से प्रोसेस करके उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं के अनुसार आउटपुट में बदलता है। कंप्यूटर एक प्रकार की मशीन होती है जिसमें इलेक्ट्रॉनिक संशोधन की प्रक्रिया होती है जिससे विभिन्न कार्य किए जा सकते हैं।

What is Computer in Hindi 2023
What is Computer in Hindi 2023

कंप्यूटर का अर्थ (Computer Meaning In Hindi)

“कंप्यूटर” शब्द का अर्थ है “गणक” या “हिसाब करने वाला”। यह शब्द आमतौर पर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को व्यक्त करने के लिए प्रयुक्त होता है जो डेटा को प्रोसेस करने, स्टोर करने, और उस पर काम करने की क्षमता रखता है। यह डेटा को इनपुट से आउटपुट में बदलता है ताकि विभिन्न प्रकार के काम किए जा सकें।

 

Read More :-

 

कम्प्यूटर का इतिहास एवं विकास | History of computer in hindi

कंप्यूटर का इतिहास एक रोचक और महत्वपूर्ण यात्रा है जो इंसान की तकनीकी प्रगति को दर्शाता है। आइए, हिस्ट्री में इसके महत्वपूर्ण मोड़ को समझते हैं:

Computer kya hai
Computer kya hai
  1. प्राचीन गणना उपकरण: कंप्यूटर की प्रारंभिक रूपरेखा ग्रीक और रोमन समय में शुरू होती है, जब लोग आंकड़ों की गणना करने के लिए खास उपकरणों का उपयोग करते थे।
  2. अबाकस: 17वीं शताब्दी में चार्ल्स बेबेज द्वारा बनाया गया “अबाकस” एक मशीन था जो गणना करने में मदद करता था। यह मशीन प्रोग्राम नहीं कर सकती थी, लेकिन यह एक महत्वपूर्ण प्रेरणा स्रोत था।
  3. अनालिटिकल इंजन: 19वीं शताब्दी में चार्ल्स बेबेज ने एक अनालिटिकल इंजन का अविष्कार किया, जिसमें वे बिना मानव हस्तक्षेप के प्रोग्राम डाल सकते थे। यह एक अद्वितीय कदम था जिसने कंप्यूटिंग के रास्ते खोले।
  4. एनालाइकल इंजन: 19वीं शताब्दी के अंत में, एडा लवलेस के साथ, चार्ल्स बेबेज ने पहली बार एक प्रोग्राम के साथ चलने वाले कंप्यूटर “एनालाइकल इंजन” का निर्माण किया, जिसने प्रोग्रामिंग के क्षेत्र में एक बड़ी उपलब्धि की।
  5. वॉन न्यूमैटिक मशीन: 1940 के दशक में कन्राड जूस्ट द्वारा बनाई गई यह पहली डिजिटल कंप्यूटर थी जिसमें वॉन न्यूमैटिक्स का प्रयोग हुआ था। यह कंप्यूटर विभिन्न प्रकार की गणनाओं के लिए उपयोग होता था।
  6. एनियैक: 1946 में, पहला इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटर “एनियैक” विकसित किया गया जो वाकई आधुनिक कंप्यूटर की शुरुआत थी। इसमें वाल्टर हॉर्चमर्क और जॉन प्रेसपर एटानेसोफ द्वारा विकसित तकनीक का प्रयोग हुआ था।
  7. वॉन न्यूमैटिक मशीन बी (ENIAC B): 1947 में, ENIAC की वेरिएंट “ENIAC B” विकसित की गई, जो उस समय की सबसे बड़ी और तेज कंप्यूटिंग मशीन थी।

कंप्यूटर के जनक कौन है? / computer ke janak kaun hai

कंप्यूटर के जनक कई लोगों द्वारा योगदान किये गए हैं और यह एक सिस्टम का परिणाम है जिसमें अनेक विज्ञानिक, इंजीनियर, और विशेषज्ञों ने भाग लिया है।

कुछ प्रमुख व्यक्तित्व जिन्होंने कंप्यूटर के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं:

  1. चार्ल्स बेबेज: चार्ल्स बेबेज को कंप्यूटर के “पिता” के रूप में माना जाता है। उन्होंने अनालिटिकल इंजिन (Analytical Engine) नामक मॉक-अप कंप्यूटर की डिज़ाइन बनाई थी, जो की 19वीं सदी में एक गणनात्मक मशीन की शुरुआत थी।
  2. आलन ट्यूरिंग: आलन ट्यूरिंग एक ब्रिटिश गणितज्ञ, लॉजिकियन, और क्रिप्टोग्राफर थे, जिन्होंने ट्यूरिंग मशीन की विचारधारा प्रस्तुत की, जिसने कंप्यूटर विज्ञान के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान किया।
  3. जॉन प्रेसपर एक्कर्ट: उन्होंने 1941 में पहले इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटर को बनाया था, जिसे “मैनचेस्टर मार्क 1” के नाम से जाना जाता है।
  4. जॉन वॉन न्यूमन: उन्होंने ईनियैक्स (ENIAC) कंप्यूटर की डिज़ाइन बनाई थी, जो दुनिया का पहला पूर्णत: इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर था।
  5. डेनिस रिची: उन्होंने “सी” प्रोग्रामिंग भाषा को विकसित किया, जो कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में महत्वपूर्ण है।

इसके अलावा, कंप्यूटर के विकास में अनेक विशेषज्ञों, इंजीनियरों, और वैज्ञानिकों का योगदान था, जिनके संयोजन ने आजकी आधुनिक कंप्यूटिंग तकनीक को मुमकिन बनाया।

Computer का Full Form

कंप्यूटर” का पूरा रूप है:

C: Commonly
O: Operated
M: Machine
P: Particularly
U: Used for
T: Technology
E: Education and
R: Research

कंप्यूटर की परिभाषा (Definition Of Computer)

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो डेटा को प्रोसेस करने, स्टोर करने, मानकीकृत करने, और उस पर काम करने की क्षमता रखता है। यह डेटा को विभिन्न तरीकों से प्रोसेस करके उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं के अनुसार आउटपुट में बदलता है। कंप्यूटर इनपुट डेटा को प्रोसेस करके उपयोगकर्ता के लिए जानकारी तैयार करने में मदद करता है और आधुनिक जीवन में व्यापक रूप से उपयोग होता है।

कंप्यूटर के गुण व विशेषताएं (Characteristics Or Features Of Computer)

कंप्यूटर के गुण और विशेषताएँ (Characteristics and Features of Computer) विस्तार से:

  1. गति (Speed): कंप्यूटर की प्रमुख विशेषता गति है। यह अत्यधिक गति से डेटा प्रोसेस करते हैं, जिससे विभिन्न प्रकार के कार्यों को कुछ सेकंडों में पूरा कर सकते हैं। यह गति संचालनीयता, उत्पादकता, और अधिक समय प्रयोजनीयता की सुविधा प्रदान करती है।
  2. संचयन (Storage): कंप्यूटर डेटा को स्टोर करने की क्षमता रखते हैं। यह सुनिश्चित करता है कि विभिन्न प्रकार की जानकारी को सहेजा जा सके और उसे आवश्यकतानुसार उपयोग में लाया जा सके। यह विभिन्न स्टोरेज डिवाइस का उपयोग करके डेटा को स्थायी और स्थानिक रूप से स्टोर कर सकते हैं।
  3. टैक्समीकल (Accuracy): कंप्यूटर अत्यंत सटीक होते हैं। वे बिना मानव हस्तक्षेप के भी डेटा को सटीकता से प्रोसेस कर सकते हैं। यह त्रुटियों की कमी को सुनिश्चित करने में मदद करता है और विभिन्न कार्यों में उच्च गुणवत्ता की प्राप्ति में मदद करता है।
  4. धाराप्रवाहिता (Versatility): कंप्यूटर विभिन्न प्रकार के कार्यों को करने में सक्षम होते हैं। यह गणना, डेटा प्रोसेसिंग, ग्राफिक्स, गेमिंग, आदि के क्षेत्र में उपयोग होते हैं। इसकी वर्सेटाइलिटी उपयोगकर्ताओं को विभिन्न कार्यों को समय पर करने की सुविधा प्रदान करती है।
  5. जीवनकाल (Diligence): कंप्यूटर हमेशा स्थिरता और धैर्य से काम करते हैं। वे थकने की स्थिति में नहीं आते और लंबे समय तक संचालित रह सकते हैं। इसका मतलब है कि वे लंबे कार्य समय के लिए उपयुक्त होते हैं और बिना विघटन के काम कर सकते हैं।
  6. शुद्धता (Accuracy): कंप्यूटर की शुद्धता उच्च होती है। वे डेटा को बिना त्रुटि के प्रोसेस कर सकते हैं, जिससे सटीक परिणाम मिलते हैं। यह उपयोगकर्ताओं को विश्वसनीय और सही जानकारी प्रदान करने में मदद करता है।
  7. व्यापकता (Scalability): कंप्यूटर की क्षमता को वृद्धि देने के लिए उपयुक्त बदलाव किए जा सकते हैं।

कंप्यूटर के उपयोग | Uses of Computer in Hindi

  1. शिक्षा और शैक्षिक क्षेत्र: कंप्यूटर शिक्षा क्षेत्र में डिजिटल शिक्षा, ऑनलाइन कक्षाएँ, वीडियो शिक्षा, और शैक्षिक सॉफ़्टवेयर के रूप में उपयोग होते हैं।
  2. व्यवसायिक उद्योग: कंप्यूटर व्यवसायिक कार्यों में जैसे कि लेन-देन, स्टॉक मैनेजमेंट, लेखा, मार्केटिंग, और व्यवसायिक सॉफ़्टवेयर के रूप में उपयोग होते हैं।
  3. मनोरंजन और मनोविज्ञान: कंप्यूटर विभिन्न मनोरंजन के शैलियों में जैसे कि गेमिंग, डिजिटल मीडिया स्ट्रीमिंग, ऑनलाइन वीडियो, और मनोविज्ञान सॉफ़्टवेयर के रूप में उपयोग होते हैं।
  4. संचार और सोशल मीडिया: कंप्यूटर आवासीय और नागरिक सेवाएँ में जैसे कि इंटरनेट, ईमेल, सोशल मीडिया, और ऑनलाइन वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के रूप में उपयोग होते हैं।
  5. विज्ञान और तकनीक: कंप्यूटर विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में सिमुलेशन, जांच-परिक्षण, विश्लेषण, और नई तकनीकों की विकास में उपयोग होते हैं।
  6. चिकित्सा और जीवन विज्ञान: कंप्यूटर चिकित्सा के क्षेत्र में रोग पूर्णता की पहचान, चिकित्सा रूपांतरण, और मेडिकल रिसर्च में उपयोग होते हैं।
  7. सैन्य और रक्षा: कंप्यूटर सैन्य और रक्षा के क्षेत्र में सिमुलेशन, सूचना सुरक्षा, और संयुक्त युद्ध प्रबंधन में उपयोग होते हैं।
  8. आवासीय और नागरिक सेवाएँ: कंप्यूटर आवासीय सेटिंग में जैसे कि गृह ऑटोमेशन, सुरक्षा सिस्टम, और सरकारी योजनाओं में उपयोग होते हैं।
  9. विज्ञान और अनुसंधान: कंप्यूटर अनुसंधान के क्षेत्र में गणनात्मक मॉडलिंग, डेटा विश्लेषण, विज्ञान प्रोजेक्ट्स, और प्रयोगशालाओं में उपयोग होते हैं।
  10. पर्यावरण और वनस्पति विज्ञान: कंप्यूटर पर्यावरण और वनस्पति विज्ञान के क्षेत्र में डेटा संग्रहण, विश्लेषण, और प्रबंधन में उपयोग होता है ।

Types of Computer in Hindi | कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं?

कंप्यूटर के विभिन्न प्रकार (Types of Computer) –

  1. पर्याप्त शक्ति वाले कंप्यूटर (Supercomputers): पर्याप्त शक्ति वाले कंप्यूटर सबसे शक्तिशाली होते हैं और बड़े गणनात्मक कार्यों को करने के लिए उपयोग होते हैं। उनकी प्रमुखता गणनात्मक मॉडलिंग, वायुमंडल अनुसंधान, खाद्य सुरक्षा, और विज्ञान अनुसंधान में होती है।

  2. मुख्य कंप्यूटर (Mainframe Computers): मुख्य कंप्यूटर बड़े स्तर पर काम करने के लिए उपयोग होते हैं, जैसे कि वित्तीय लेन-देन, सरकारी कार्य, और व्यवसायिक आवश्यकताएँ। ये कंप्यूटर समय समय पर बड़े कार्यों को सम्पन्न करने के लिए उपयोग होते हैं।
  3. मिनी कंप्यूटर (Minicomputers): मिनी कंप्यूटर मुख्य कंप्यूटर और माइक्रो कंप्यूटर के बीच में होते हैं। ये कारगर और छोटे व्यवसायों के लिए अच्छे होते हैं, जो मध्यम स्तर की गणना और प्रोसेसिंग की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उपयोग करते हैं।
  4. माइक्रोकंप्यूटर (Microcomputers): माइक्रोकंप्यूटर आमतौर पर व्यक्तिगत उपयोग के लिए होते हैं और इसमें हार्डवेयर के रूप में संग्रहित कंप्यूटर होते हैं, जैसे कि पर्सनल कंप्यूटर (PC), लैपटॉप, टैबलेट, और स्मार्टफोन।
  5. वर्गीकृत कंप्यूटर (Categorized Computers): इसमें कई उप-प्रकार शामिल होते हैं जो विशिष्ट कार्यों के लिए डिज़ाइन किए गए होते हैं, जैसे कि सर्वर, वर्चुअल कंप्यूटर, और इंबेडेड कंप्यूटर।
  6. स्पेशल पर्याप्त शक्ति वाले कंप्यूटर (Special-purpose Supercomputers): ये कंप्यूटर विशिष्ट गणनात्मक कार्यों के लिए डिज़ाइन किए गए होते हैं, जैसे कि अत्यधिक गति वाले क्वांटम कंप्यूटर।

कंप्यूटर के ये विभिन्न प्रकार विभिन्न उद्योगों और आवश्यकताओं के अनुसार उपयोग होते हैं और इंसानों के जीवन के विभिन्न पहलुओं को सुगमता और तेजी से प्रोसेस करने में मदद करते हैं।

Technology Topic Read More cgepaper

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!